Thursday, June 28, 2018

CINNAMON Meaning in Hindi and English - सिनमन का हिंदी मतलव(मीनिंग)

Cinnamon Meaning in Hindi and English : आज का टॉपिक सिनमन का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) है. तो जल्दी से Meaning of Cinnamon in Hindi and English को बड़े ही विस्तार से समझकर जानेगे. यहाँ इससे रिलेटेड सभी संभावित बातो को शेयर किया है.

Cinnamon Meaning in Hindi and English :


मीनिंग ऑफ़ सिनमन इन हिंदी -

Noun 
 - दारु-सिता.
 - दालचीनी.
 - दारचीनी.
 - दालचीती.


मीनिंग ऑफ़ सिनमन इन इंग्लिश - 

Noun
1. Spice from the dried aromatic bark of the Ceylon cinnamon tree; used as rolled strips or ground.
2. Tropical Asian tree with aromatic yellowish-brown bark; source of the spice cinnamon.
3. Aromatic bark used as a spice.

अबतक हम जान चुके है सिनमन का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) के संक्षेप रूप को, लेकिन आगे इसके प्रभाव, उपयोग के साथ विस्तार डिटेल्स को बढ़िया तरीके से समझाया है जिससे कि आप इनको पढ़कर पूरी तरह समझ पाये और सारे डाउट क्लियर हो सके ताकि आपकी इंग्लिश की वोकुवलरी अच्छी होकर काफी कुछ सीख जाये.

Cinnamon Meaning in Hindi and English


What is the Meaning of Cinnamon in Hindi and English :


इन शब्दों का वर्णन -

- दालचीनी, शब्द को हमने बहुत बार हमारे घर में सुना ही होगा साथ ही डेली उपयोग में लाया भी होगा चूकी दाल चीनी एक प्रकार से घरो में उपयोग की जाने बाली शक्कर(शुगर) ही है जो दाल के समान छोटे - छोटे दानो के रूप में होती है. शायद इसका नाम भी इसलिए यही पड़ गया है. 

हमारे रोजमर्रा के भोजन में जो भी चीजे आज बनायीं या पकाई जाती है और जो मीठी होती है. उनके मीठे होने का कारण उनमे शक्कर का मिलाना ही है.

उदाहरण के तौर पर चाय, मीठे पराठे, मालपुए, गुलाब जामुन, जलेबी, मिठाई आदि बहुत से भोज्य पदार्थ में इसका यूज़ आज बहुत जरुरी है या कहे कि इसके बिना इन खाने के आईटम बनाना मुश्किल है. चीनी की खपत दिनों दिन बड़ती ही जा रही है. आगे हम इसकी इंडस्ट्री के बारे में बात करेंगे. 

- दारू-सीता, इसे हम ऐसे भी ले सकते है कि यह एक प्रकार का मीठा द्रव्य ही होता है जो शक्कर की तरह ही मीठा लगता है लेकिन इसको अलग तरीको से बनाकर सड़ाया गलाया जाता है, चूकी शक्कर और यह दोनों को गन्ने के रस से ही बनाया जाता है पर इनके तरीके अलग - अलग होते है. इसे ख़राब हुए गुड़ के द्वारा बनाकर इसे रूप में लाया जाता है.

जब सड़े गुड़ को कुछ स्टेप से गुजारा जाता है तब इस पदार्थ का निर्माण होता है यह तरल और बहुत ज्यादा नशीला होता है इसको खासकर मदिरा या नशे करने बाले पदार्थ के रूप में अलग - अलग मिलावट के जरिये बदला जाता है.

हालाकि दालचीनी और दारू-सीता दोनों का सोर्स एक ही है इनके उपयोग करने के ढंग और तरीको में उतना ही बड़ा अंतर है. दाल चीनी को रोजमर्रा की लाइफ में सभी घरो में प्रत्येक मेम्बर के द्वारा उपयोग में लाया जाता है इसके विपरीत दारू-सीता से बने नशीले पदार्थ कुछ लोगो के द्वारा ही यूज़ किये जाते है.

इनके प्रभाव -

- दालचीनी के इफ़ेक्ट की बात करे तो इसका उतना कोई हानिकारक प्रभाव तो नही देखने को मिलता है यदि लिमिट में यूज़ किया जाए तो. यह सभी परिवारों, पुरे देश के हाउस में जरुरत की चीज है. आज इसके बिना गुजारा मुश्किल हो जाता है.

अगर राशन की लिस्ट बनाई जाए तो इसे टॉप 10 में रखना पड़ेगा क्योकि यह इतनी महत्वपूर्ण बन चूकी है देखा जाए तो इसका कोई खास बुरा इफ़ेक्ट तो नही लेकिन भारत में शुगर की परेशानी एक उम्र के बाद देखने को अधिकतर लोगो में देखने को मिलती है. उस समय इसकी मात्रा को कम या उपयोग ना करने की सलाह दी जाती है.

अब इसके उद्योग की ओर रुख करे तो आप पायेंगे यह एक प्रकार का सीजनल व्यवसाय होता है क्योकि किसान गन्ने लगाते है जो कि साल में एक ही बार परिपक्व होते है. फिर इन्हें काटकर बड़ी - बड़ी शुगर मिलो तक पहुचाया जाता है जहाँ इनका रस निकालकर कुछ प्रोसेस से गुजारने के बाद शक्कर प्राप्त कर ली जाती है ये मील साल में 3 से 4 मंथ ही चलती है और उत्पादन पूरे साल का कर देती है. 

यदि शकर के प्राइस को देखे तो इसमें उतार - चढ़ाव इसको बनाने और डिमांड पर निर्भर करती है, चूकी गन्ने की खेती में पानी बहुत ज्यादा लगने के साथ लागत अधिक लग जाता है जिससे किसान इन्हें उगाने में समझदारी नही मानता. जिससे गन्नो की पैदाबार कम होने से भी शुगर की कीमत पर काफी इफ़ेक्ट पड़ता है.

- दारू-सीता, हालाकि यह गन्ने से बने गुड़ के ख़राब या सड़ जाने के बाद उससे दारू - सीता को बनाया जाता है. यह पदार्थ बहुत नशीला, गंधयुक्त और धीमा जहर भी कह सकते है. इसकी थोड़ी मात्रा से ही बहुत दारू और अलग तरह के नशीले पदार्थो को बनाया जाता है. ये सब नशीली चीजे मानव शरीर के साथ समाज और फिर देश में बहुत दुष्परिणाम को जन्म देती है.

अधिकतर बुरे काम इनको ग्रहण करने के बाद ही किये जाते है क्योकि इन्हें पीने के बाद आदमी अपने आपको तीस मारखा समझने लगता है और कुछ भी करने को राजी हो जाता है फिर चाहे वो काम कितना ह सही या गलत क्यों ना हो. 

इस तरह बहुत से अपराध इंसान इनकी चपेट में आने के बाद क्र बैठता है क्योकि इन पदार्थो को लेने के बाद उन्हें किसी प्रकार की सुध नही रहती है उनके दिमाग में खून की गति धीमी हो जाती है जिससे कुछ ज्यादा समझ नही आ रहा होता है. इन चीजो को लोग आसानी से एक्सेप्ट कर लेते है इनकी हानि के बारे में पता होने के बाद भी. 
आप ऐसे ही बहुत से Hindi Meaning शब्दकोष डिक्शनरी पर से जान सकते है.

शब्दों के उपयोग -

- दालचीनी, इस शब्द का उपयोग अक्सर घरो में करते देखा गया है. इसे हाउस में खाने के बहुत से पकबानो में यूज़ भी किया जाता है. यह गन्ने के रस से बनी होती है.

- दारू-सीता, गन्ने के रस से बने गुड़ जिसके ख़राब हो जाने के बाद बने पदार्थ को दारू-सीता कहते है. यह नशीला होता है इस शब्द को इसके लिए यूज़ में लाया जाता है.

फ्रेंड क्या आपको यह पोस्ट Cinnamon Meaning in Hindi and English की जानकारी सिनमन का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) जानकर अच्छी लगी तो हमे कमेंट करके जरुर बताये और अपनी राय भी देना ना भूले. इसके अलावा भी बहुत पूछे जा रहे प्रश्नों What is the Meaning of Cinnamon in Hindi and English, "Cinnamon" in Hindi Meaning के हल भी मिल गये होंगे. 

No comments:

Post a Comment