Thursday, July 5, 2018

ABSTRACT Meaning in Hindi and English - एबस्ट्रेक्ट का हिंदी मतलव

Abstract Meaning in Hindi and English : मैं बताने जा रहा हूँ एबस्ट्रेक्ट का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) की पूरी जानकारी. तो फ्रेंड्स चलिए Meaning of Abstract in Hindi and English के संक्षेप और विस्तार विवरण को जानते है.

Abstract Meaning in Hindi and English :


मीनिंग ऑफ़ एबस्ट्रेक्ट इन हिंदी -

Noun                                   Adjective                        Verb 
 - अमूर्त विचार.                         - अमूर्त.                           - सारांश लिखना
 - कल्पना.                              - काल्पनिक.                      - संक्षिप्त बनाना
 - ख़याल.                               - निराकार.                         - घटाना
 - तत्व.                                 - भाववाचक.                       - निकालना
 - संक्षेप.                                                                     - हटाना
 - सार.
 - सारांश.
 - अमूर्त चित्र.


मीनिंग ऑफ़ एबस्ट्रेक्ट इन इंग्लिश -

Adjective
1. Existing only in the mind; separated from embodiment.
2. Dealing with a subject in the abstract without practical purpose or intention.
Example
- Abstract science.

Noun
1. A concept or idea not associated with any specific instance.
2. A sketchy summary of the main points of an argument or theory.

Verb
1. Consider a concept without thinking of a specific example; consider abstractly or theoretically.
2. Consider apart from a particular case or instance.
3. Give an abstract (of).

दोस्तों अभी तक आपने एबस्ट्रेक्ट का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) शोर्ट में याने केवल एक - एक करके कुछ शब्दों में ही जाना लेकिन इन शब्दों के मतलबो के अंदर झाँका जाए तो प्रत्येक मतलव कुछ अलग तरह की बाते हमारे सामने खोलकर रख देता है.

हम यहाँ आगे इन्ही पर विस्तार से जानने बाले है ताकि आप इस मीनिंग को अपने अवचेतन मस्तिष्क में कुछ महत्वपूर्ण को लेकर स्टोर कर सको. तो चलिए शुरू करते है.

Abstract Meaning in Hindi and English

What is the Meaning of Abstract in Hindi and English :


इनके मतलवो का डिटेल्स विवरण -
- सारांश, इसका सीधा सा मतलव किसी बड़ी स्टोरी का वह छोटा भाग या निष्कर्ष जो की खास भाग या कहे कि उसका निचोड़ हमारे सामने व्यक्त करता है. आपने बहुत बार ये देखा भी होगा कि कई सारे आर्टिकल या स्टोरी के पूरी तरह कम्पलीट होने के बाद उसके निचोड़ को शोर्ट में बताने की कोशिश कुछ पंक्तियों में किया जाता है.

- तत्व, यहाँ हम इसे किसी सोच से तुलना कर सकते है जैसे मान लो आपने कोई बुक या टॉपिक को रीड किया. उसके बाद आपके दिमाग में जिस तत्व या सोच का विकास होता है उस टॉपिक को पढ़ने के बाद यही इस शब्द के मूल अर्थ को बताता है.

- संक्षेप, इसे हम काफी हद तक सारांश से रिलेट कर सकते है लेकिन दोनों में कुछ अंतर जैसे कि सारांश मतलव एक बड़ी चीज का छोटा रूप जो बड़े का अंश होने के साथ उसकी पूरी जानकारी को समेटकर रखता है जबकि संक्षेप का मतलव केवल और केवल छोटा रूप ही होता है.

- कल्पना, यह शब्द ऊपर के सभी वर्ड से अलग प्रतीत होता है क्योकि इसकी खासबात इसे पढ़ा या देखा जाना जरुरी नही बल्कि इसमें चलचित्र को अपने दिमाग में क्रिएट कर महसूस करना होता है. इसे अधिकतर तब उपयोग में लाते है जब चीजे वास्तव में ना होकर केवल उसे दिमाग में बनाया जाता है. इनका रूप किसी भी प्रकार का हो सकता है.

- खयाल, इन्हें हम ऐसे समझ सकते है कि मानो कुछ विचार जो एक दम बनते और ख़तम हो जाते है. यदि आप एक इंसान रूप में है और आपका दिमाग अच्छे से वर्क कर रहा है तो प्रत्येक दिन आपको करीब 64000 विचार आयेंगे ऐसा वैज्ञानिको का मानना है. 

ये प्रक्रिया खुद व खुद आपकी इजाजत के बिना अचानक होती रहती है. इन्हें आप कंट्रोल कर सकते है लेकिन पूरी तरह तो तभी हो सकते है जब दिमाग खतम होगा.

खयाल अच्छे और बूरे सभी तरह के होते है अधिकतर विचार उन्ही से रिलेटेड होते है जो आपके आसपास है जो आप पाना या करना चाहते है, जिन चीजो के आप बार - बार महसूस करते है.

- अमूर्त चित्र, इसका तात्पर्य कुछ ऐसे चित्र जो मूर्त या हकीकत में ना हो इसे प्रदर्शित करता है. यह शब्द बहुत से मायनों में कल्पना से संबंध रखता है क्योकि कल्पना कुछ और नही बस दिमाग की करामात होती है चूकी दिमाग की यह हेविट है कि वह जिस चीज को ठीक से नही जान पाता फिर भी उसे समझना हो तब कुछ चीजो से रिलेट करके चित्र बनाते रहता है इन्हें अमूर्त चित्र कहते है जो हकीकत में शायद ही हो.

शब्दों के प्रभाव -

- सारांश, चूकी यह किसी कहानी से संबंध रखता जिसमे पूरी स्टोरी समेटे हुयी होती है. अब यदि प्रभाव की बात करे तो इसका पॉजिटिव, नेगेटिव इफ़ेक्ट बड़े जवरदस्त तरीके से फैलकर असर करते है. जब ये सही दिशा में रहकर एक अच्छा मेसेज दे तब तो ठीक क्योकि इससे लोग कुछ नया करने को इंस्पायर होते है. 

इसके विपरीत गलत मेसेज लड़ाई दंगे तक करा देते है हालाकि हमने इनके बड़े लेवल की बात के द्वारा समझाया पर अधिकतर मामलो में ज्यादा कुछ खास इफ़ेक्ट नही देखा गया.

उदहारण से समझे तो आये दिन बहुत सी मूवीज किसी ना किसी स्टोरी या ऐसे मुद्दों को लेकर आती है जो हर प्रकार के प्रभाव के लिए जिम्मेदार है. इनका लोगो पर अच्छा - बूरा दोनों प्रकार से प्रभाव पड़ता है जिसके चलते समाज, देश भी इसके दायरे में देखने को मिलते है.

- तत्व, किसी चीज को देखने, सुनने, पढ़ने आदि के बाद जो बोध याने ज्ञान पैदा होता है. वह लोगो की लाइफ के साथ सोसाइटी, परिवार और कंट्री को काफी हद तक प्रभावित करने के साथ एक दिशा में ले जाता है. अब ये दिशा कौन सी होगी वेहतर या बेकार यह लेवल बोध पर निर्भर करेगा. तो इससे जाहिर है अगर अच्छे रिजल्ट चाहिए जड़ रूपी बोध याने ज्ञान को सही दिशा देनी होगी.

- संक्षेप, जैसे कि ऊपर बताया गया इसे सारांश से तुलना कर सकते है मतलव इसका इफ़ेक्ट भी बहुत से मामलो में इसके जैसे ही देखने को मिलेंगे.

- कल्पना, मतलव ऐसे चीजो को दिमाग में एक कहानी की तरह देखना जो वास्तविकता में बिल्कुल भी नही जो आप कल्पना करते है उसे पूरी तरह वैसे ही दूसरा ना देख पाता है प्रभाव को लेकर बात करे तो इसे माइंड अपने अंदर देखकर उन्ही चीजो पर बात करना, वैसे ही हरकते करना बल्कि इसका फर्क उसके काम में भी देख पायेंगे. 

इसका सही डायरेक्शन में होना बहुत जरुरी होगा नही तो व्यक्ति इनको वास्तव में प्रकट करने हेतु काफी गलत कार्य करेगा जोकि हमारे समाज, देश के भविष्य को लेकर चिंता का विषय बन जायेगा.

- अमूर्त चित्र, वे चित्र जो मूर्त याने वास्तव में नही अमूर्त कहलायेंगे, चूकी ये चित्र खासकर कल्पना में ही देखे जाते है मतलव इसका प्रभाव भी कल्पना बाले आप्शन के जैसे ही देखने को मिलेंगे.

शब्दों के उपयोग -

- सारांश, इस शब्द का उपयोग किसी बड़ी बात या कहानी को छोटे सार के रूप में बताने के लिए करते है.

- तत्व, किसी चीज को सुनने, देखने, पढ़ने से जिस बोध या ज्ञान की प्राप्ति होती है उसे दर्शाता है.

- संक्षेप, इसका यूज़ किसी को छोटे रूप में व्यक्त करने हेतु किया जाता है.

- कल्पना, जब किसी चीज को समझने हेतु दिमाग में सोच के माध्यम से कुछ चित्र बनाये जाते है तब उन्हें प्रदर्शित करने के लिए इसे यूज़ में लेते है.

- अमूर्त चित्र, इनका यूज़ तब करते है जब कुछ ऐसे चित्रों को दर्शाना हो जो वास्तव में ना हो.

मुझे आशा है आप Abstract Meaning in Hindi and English इस पोस्ट एबस्ट्रेक्ट का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को पढ़कर इसके बारे में सब समझ गये होंगे. यह विवरण कैसा लगा अपने विचार और सुझाव हमे कमेंट के माध्यम से अवश्य बताये लोगो के द्वारा अधिकतर पूछे जाने बाले कुछ सम्बंधित सवाल What is the Meaning of "Abstract" in Hindi and English, Abstract Thinking Meaning in Hindi के जवाब भी हमने शेयर करने की कोशिश की है.

No comments:

Post a Comment