Friday, July 13, 2018

CONCERN Meaning in Hindi and English - कंसर्न का हिंदी मतलव(मीनिंग)

Concern Meaning in Hindi and English : दोस्तों हम शेयर करेंगे हिंदी शब्दकोष के कंसर्न का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को पुरे डिटेल्स के साथ, तो जल्दी से Meaning of Concern in Hindi and English को जानने के लिए इस पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े.


Concern Meaning in Hindi and English :


मीनिंग ऑफ़ कंसर्न इन हिंदी -

Noun                                                 Verb 
 - सहानुभूति.                                      - लगाव रखना.
 - सोच.                                            - से सम्बन्ध रखना.
 - वास्ता.                                           - दिलचस्पी लेना.
 - कारखाना.                                        - प्रयोजन होना.
 - कारोबार.                                         - चिंता करना.
 - चिंता.                                            - संबंधित होना.
 - दिलचस्पी.                                       - महत्व होना.
 - प्रतिष्ठान.                                        - दिलचस्पी पैदा करना.
 - प्रयोजन.
 - प्रसंग.
 - मामला.
 - संबंध.
 - संस्था.
 - सरोकार.

मीनिंग ऑफ़ कंसर्न इन इंग्लिश -

Noun
1. Something that interests you because it is important or affects you.
2. Something or someone that causes anxiety; a source of unhappiness.
Example
- It's a major worry.

3. A feeling of sympathy for someone or something.

Verb
1. Be relevant to.
Example
- My remark pertained to your earlier comments.

2. Be on the mind of.

इस पोस्ट के कुछ भाग का क्रेडिट ShabdKosh को जाता है.

फ्रेंड्स मुझे यकीन है आपने ऊपर कंसर्न का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को शोर्ट में पढ़ ही लिया होगा, लेकिन संक्षेप में केवल कुछ अलग - अलग शब्द मतलवो के रूप में मिले होंगे. 

इसके अलावा आगे हमने इस पोस्ट के अंदर इन मीनिंग को एक - एक करके उसके वर्णन के साथ प्रभाव और उपयोग को एक्सप्लेन किया है ताकि जब आप इन्हें पढ़कर जानने की कोशिश करे तब काफी अच्छे से यह सब कुछ समझ आ जाए. इन सभी को समझने हेतु आपको यह आर्टिकल एक बार लास्ट तक जरुर पढना चाहिए.


Concern Meaning in Hindi and English



What is the Meaning of Concern in Hindi and English :


इन वर्डो के डिटेल्स विथ एक्साम्प्ल -

- काम, इस शब्द के मतलव से आप और मैं अच्छी तरह बाकिफ होंगे ही क्योकि सभी को अपनी लाइफ को चलाने के लिए बहुत सी चीजो की जरुरत होती है और इनकी पूर्ति के लिए डेली हमे वर्क करना ही पड़ता है. यहाँ काम के बहुत से स्तर तथा इसके अनुसार उनके परिणाम सामने दिखाई पड़ते है. 

इसके साथ ही यह शारीरिक और दिमागी तौर पर अलग - अलग उद्देश्य को पाने हेतु किये जाते है तथा व्यक्ति अच्छा और अधिक रिजल्ट पाने हेतु ज्यादा काम भी करना अपना परम लक्ष्य बना लेते है ताकि अपने जीवन को और बेहतर बनाकर जीये.

- चिंता, जब इंसान शान्सारिक चीजो, वस्तुओ, कार्यो से अपने आपको जोड़े रखेगा तब तक तो यह चिंता कही ना कही उनका पीछा करती ही रहेगी क्योकि चिंता का सीधा जुड़ाव इनसे होता है. 

चाहत की चीजे ना मिलना, अपना काम ठीक से पूरा ना होना, प्रतिस्पर्धा, आत्मग्लानी, ज्यादा पाने का लालच, कुछ पीछे छुट जाने का गम या डर, पिछले दिनों में की गयी कुछ गलतियों को बार - बार याद करना आदि कारण चिंता को जन्म देते है.

- संबंध, हम इस शब्द के मीनिंग से अच्छी तरह बाकिफ है क्योकि हम इन्हें रोज जीते या महसूस करते जिसे हम एक परिवार की तरह मानते है. इनके अलावा वे लोग जिनसे हमारी रोज - मर्रा की जिंदगी में मेल - मिलाप होता रहता है. इन संबंधो के बीच कभी ख़ुशी कभी गम बाला अहसास चलता रहता है.

- प्रयोजन, हम इसको दूसरे शब्द 'उद्देश्य' से भी जान सकते है. हमारी जिंदगी में सभी के अपने - अपने टारगेट या उद्देश्य होते है जिन्हें पूरा करने हेतु डेली काम भी करते है प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का प्रयोजन भिन्न - भिन्न होता है. सभी अलग - अलग प्रकार की चीजे पाना चाहते है. किसी का उद्देश्य छोटा और किसी का बहुत बड़ा रहता है.

- दिलचस्पी, इसका सीधा सा अर्थ वह काम जिसमे आपको मजा आये या जिसे बहुत समय से कर रहे है. प्रत्येक व्यक्ति की भिन्न प्रकार के कामो को करने में दिलचस्पी या रूचि रहती है लेकिन बहुत से मामलो में उन्हें ऐसे भी कार्य और चीजो को करना पड़ता है. 

जिनमे उनकी कोई रूचि तक नही होती है. वह मज़बूरी या परेशानियों के चलते उनके द्वारा किये जाना ही जरुरी होता है क्योकि जीवन हो सकता है अभी इन्ही कार्यो की वजह से रोजमर्रा की जरूरते पूरी हो रही है.

- सहानुभूति, किसी के प्रति दयालुता दिखाने का नाम ही सहानुभूति है जब आप गरीबो या असहाय लोगो को अपने आसपास देखते है तो अचानक आपके अंदर दया का भाव जाग्रत होने लगता है इसे दूसरे शब्दों में सहानुभूति कहते है. 

इस फिलिंग के अंतर्गत मनुष्य बिना कुछ पाये केवल दूसरो की जरुरत को पूरा करने के लिए अपने कदम उठाता है. हमने हमारे आसपास दया पाने और लेने बाले व्यक्तियों को देखा ही होगा.

इनके इफ़ेक्ट -

- काम, इसके प्रभाव को देखे तो यह सीधे तौर पर डायरेक्ट इसे करने के पीछे क्या उद्देश्य को रखकर किया गया, इसी से डीसाइड होता है. अच्छे कामो का अच्छा और बूरे कामो का बुरा प्रभाव तो पड़ना निश्चित ही होता है. कार्य बहुत से स्तर पर अलग तरह से भी किये जाते है इनका इफ़ेक्ट समाज, परिवार, देश तथा खुद की लाइफ पर बहुत ज्यादा देखने को मिलता है. 

सही काम से ग्रोथ निश्चित ही मिलती है इसके विपरीत गलत उद्देश्य को ध्यान रखते हुए कर्म का परिणाम सभी के लिए घातक सिद्ध होता है, गलत कामो में गोलमाल, हेराफेरी, घोटाला, ज्यादा प्राइस में चीजो को बेचना, नियमो के विपरीत काम को अंजाम देना आदि इसके अंतर्गत आते है.

- चिंता, तनाव जब तक मानव जीवन चलता है और इस जिंदगी से जुड़ाव जब तक भी रहेगा ये हमेशा किसी ना किसी स्तर पर प्रभावित करेगा ही. इसका ज्यादा या कम होना लाजमी है साथ ही यह पर्सन के ऊपर भी निर्भर करता है कि वह इसे कितना अहमियत देता है क्योकि हमने आसपास ऐसे लोग भी देखे जो छोटी समस्याओ के कारण बहुत चिंता कर बैठते है. 

इसके विपरीत कुछ व्यक्ति ऐसे भी सामने दिखाई पड़ते है जो बड़ी परेशानियों के तनाव को घोलकर पी जाते है या कहे वे इसे चुटकियो में गायब कर देते है मानो कि उनके पास कोई जादू है. अब बात करे इफ़ेक्ट कि तो इसका नेगेटिव असर ज्यादा ख़राब रिजल्ट लेकर आते है, जो हमेशा अँधेरे की तरफ धकेलते है. तब अच्छे जीवन के लिए इनसे ऊपर उठना जरुरी है.

- संबंध, इनके कुछ सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव साथ होते है कोई व्यक्ति अपनों के साथ जीवन बिताता है तब उसे असली जिंदगी का सुख मिलने के साथ काफी सपोर्ट मिलता है. परेशानियों से लड़ने के लिए क्योकि उसके साथ इस वक्त परिवार के सदस्य साथ में खड़े होते है. 

इनके विपरीत इसी फैमिली में कुछ चीजो या कार्यो के चलते मन - मुटाव या लड़ाईयां भी देखने को आये दिन मिलती रहती है. इस शब्द के मतलव का इफ़ेक्ट लाइफ के बहुत से पक्षों पर प्रभाव जरुर करता ही है.

- प्रयोजन, आपके काम करने या चीजो को पाने के पीछे का उद्देश्य यह दिखलाता है कि इसका प्रभाव किस लेवल तक पड़ेगा. सही और गलत कार्यो का उन्ही के अनुसार परिणाम देखा जा सकता है तथा ऐसे ही ये समाज, देश को प्रभावित करेंगे.

इनका उपयोग -

- काम, किसी कार्य को करने को व्यक्त करने हेतु इस शब्द को यूज़ में लाया जाता है.

- चिंता, कार्य या चीजो के कारण उत्पन्न तनाव को दर्शाने के लिए वर्ड को उपयोग करते है.

- संबंध, यह परिवार तथा आसपास के लोगो के जुड़ाव को दिखाने हेतु इस वर्ड को यूज़ करते है.

- प्रयोजन, किसी काम या चीज के पीछे उद्देश्य को व्यक्त करने के लिए इसे उपयोग में लेते है.

मैं विश्वास करता हूँ कि अब तक तो आपने "Concern Meaning in Hindi" and English पोस्ट जानकारी कंसर्न का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को रीड करके सब कुछ डिटेल्स में समझ लिया होगा. आपको यह इनफार्मेशन कैसी लगी तथा कुछ सुझाव हो तो हमे कमेंट करके शेयर करना ना भूले. इनके अलावा हमने What is the Meaning of Concern in Hindi and English, "Concern" Meaning in Hindi को भी इसी आर्टिकल के जरिये पेश किया है, शायद पसंद आये. 
अधिक वर्डो के मीनिंग हेतु सर्च बॉक्स का इस्तेमाल जरुर करे.

No comments:

Post a Comment