Thursday, July 12, 2018

ENVY Meaning in Hindi and English - एन्वी का हिंदी इंग्लिश मतलव(मीनिंग)

Envy Meaning in Hindi and English : मैं आज Hindi Word Dictionary के शब्द एन्वी का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) के बारे में विस्तार से जानकारी दूंगा. तो फिर चलिए Meaning of Envy in Hindi and English को जानने के लिए आगे बड़ते है.

Envy Meaning in Hindi and English :


मीनिंग ऑफ़ एन्वी इन हिंदी -
Noun 
  •  ईर्ष्या.
  •  कुढ़न.
  •  द्वेष.
  •  विद्वेष.
  •  चाह की वस्तु.

Verb 
  •  जलना.
  •  ईर्ष्या करना.
  •  देख न सकना.
  •  विद्वेष करना. 


मीनिंग ऑफ़ एन्वी इन इंग्लिश -

Noun
1. Spite and resentment at seeing the success of another (personified as one of the deadly sins).

Verb
1. Be envious of; set one's heart on.

मेरे खयाल से आपने एन्वी का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को शोर्ट में छोटे - छोटे मतलवो के साथ पढ़ लिया होगा. आगे इस पोस्ट में हमने इनके प्रत्येक मतलव को विस्तार से उदहारण और उनके इफ़ेक्ट, उपयोग को भी अच्छे से रिलेट करके समझाया ताकि आपको समझने में कोई दिक्कत ना हो और आसानी से लम्बे समय तक याद भी रख पाये.

Envy Meaning in Hindi and English

What is the Meaning of Envy in Hindi and English :


इनके मीनिंग को विस्तार से समझे -

- ईर्ष्या, यह शब्द ऐसी भावना से जुड़ा है जिसमे एक व्यक्ति दूसरे से मन ही मन जलन करने लगता है. इसके कुछ कारण जैसे अपने को छोटा मानकर बड़े या अमीर से जलन या इसका उल्टा खुद को बड़ा पैसा बाला समझकर अपने से छोटे और गरीबो के प्रति ईर्ष्या की भावना होना. यही बात काम की फील्ड से साथ चीजो के स्तर पर भी काम करती है.

उदहारण से समझते है मान लो दो पड़ोसी है. इनमे से एक के पास कार, बंगला, खुबशुरत बाइक तथा पूरी तरफ VIP फैमिली अब यहाँ दूसरे पड़ोसी के पास ये सब नही है लेकिन वह पाना चाहता जरुर है पर मेहनत करने की बजाये अपने पड़ोसी की तरक्की से मन ही मन जलते हुए ईर्ष्या की भावना रखता है.

- कुढ़न, इस शब्द का तात्पर्य उस गहरी फिलिंग से है जो व्यक्ति को बुरा महसूस करा कर अंदर से दुखी कर रही है. यह कुढ़न या दर्द किन कारणों से होता है आईये जानते है, मान लो कोई कुछ पाने हेतु मेहनत कर रहा लेकिन हाथ कुछ खास नही आता, इंसान ने कुछ अजीज प्यारी चीज को खो दिया या परिवार की कुछ समस्या जो उसे रह रहकर परेशान करती है आदि कारण इसके लिए जिम्मेदार हो सकते है.

- द्वेष, यह वर्ड क्रोध या बदले की भावना को दर्शाता है इनके अंतर्गत आदमी में मन में बाते जो उससे किसी के द्वारा बोली गयी या ऐसा काम जो उसके प्रति उसे पसंद नही आया. हो सकता है व्यक्ति को सभी के सामने जजिल किया गया इन कारणों से उसके दिलो दिमाग में द्वेष की फिलिंग जाग्रत हो गयी और वह किसी भी हाल में बदला लेना चाहता है.

इसे ईर्ष्या के बड़े रूप में देख सकते है यहाँ बहुत बार बड़ी लड़ाई भी देखने को मिलती है जो छोटी सी बात को बड़ा बनाकर सामाजिक लेवल पर टक्कर होने लगती है. यह स्थिति किन्ही भी परिवारों, समाज में रहने बाले लोगो या कोई खास करीब आदि के बीच क्रिएट हो जाता है. ये बस परिस्थितिया ही कुछ ऐसी बन जाती है कि उन्हें संभालना मुश्किल प्रतीत होता है.

- चाहत की वस्तु, इससे हमारा तात्पर्य ऐसी वस्तु से जिसे इंसान दिल से पाना चाहता है. यह सबसे गहरी इच्छा होती है जिसके लिए वह रत - दिन प्रयत्न करता है या उसके पीछे लगा रहता है. बस यही सोच के साथ की वह एक ना एक दिन जरुर मिलेगी ही.

यह वस्तु कुछ भी हो सकती है क्योकि सभी व्यक्ति समान चीजे नही चाहते है उनकी चाहत और अनुभव भिन्न होते है तथा उसके लिए काम करना भी उन्ही के हाथो में होता है.

शब्दों के प्रभाव -

- ईर्ष्या, यह एक ऐसा शब्द है जो नकारात्मक और जलन की बुरी भावनाओ को जन्म देता है. इसके नाम से ही यह प्रतीत होता है दुखी होने का एक जरिया है. जब जीवन में कोई व्यक्ति इसे उतार लेता है तब अपनों तथा रिश्तेदारों से दूरिया बना बैठता है. 

यदि बह इस फिलिंग के साथ अधिक समय तक रहे तो उसे अपने आप से नफ़रत होना स्टार्ट हो जायेगी हालाकि वह दूसरो से तो नफ़रत कर ही रहा है. इस तरह की आदत के चलते लोग उससे दूरिया बनाना शुरू कर देते है और उसे समाज में अलग द्रष्टि से देखा जाने लगता है. 

तथा उसके मन में यह बैठ जाता है कि वह सभी से पीछे और उसका कुछ नही हो सकता है जब आदमी इस प्रकार की चीजो से घिर जाये तो आप ही बताये वह सोसाइटी, परिवार और देश के लिए क्या कुछ अच्छा करने में समर्थ रहेगा ? इसका उत्तर कोई खास नही.

- कुढ़न, चीजो के ना पाने की लगातार असफलता के बाद या किसी के द्वारा प्रताड़ित करने के कारण या बहुत सी ऐसी बाते जो उसे अंदर ही अंदर खाए जा रही है. जब इंसान लम्बे समय तक इसी तरह कुढ़न महसूस करता है, तो वह कमजोर होने के साथ उसका व्हवहार भी डाउन होने लगता है.

तथा दूसरो से दूर होकर अपनी अलग दुनिया बनाने लगता है. समाज तथा आसपास जुड़े लोगो पर नकारात्मक इफ़ेक्ट पड़ने के साथ खुद की और कंट्री की प्रगति में बाधक होने लगता है.

- द्वेष, इसे हम क्रोध और प्रतिशोध की फिलिंग से जोड़कर देख सकते है. आये दिन बहुत से पारिवारिक, जातिगत इसके अलावा देश के स्तर पर आतंकबाद की भावनाये भड़क उठने के कारण काफी लडाईया देखी जाती है. इसका ज्यादातर मामलो में नेगेटिव इफ़ेक्ट देखा जाता है.

- चाहत की वस्तु, सभी इंसान की कुछ खास चाहत होती है जिसके चलते बह डेली उठता और अपने काम में जुट जाता है. इसलिए वह साम, दान, दंड, भेद की सीमाओ को भी पार करने को तैयार हो जाता है. ऐसे व्यक्ति बहुत जबरजस्त काम कर गुजरते है लेकिन यहाँ ध्यान देने बाली बात यह है की इनकी दिशा पॉजिटिव होने के साथ देश की प्रोगेस में अपना योगदान दे.

इन वर्डो का उपयोग -

- ईर्ष्या, इस शब्द का यूज़ जलन की भावनाओ के लिए करते है.

- कुढ़न, यह ऐसी भावना के लिए उपयोग में लाया जाता है जो अंदर दुःख को व्यक्त करता है.

- द्वेष, इसे हम क्रोध और बदले की आग को दर्शाने हेतु यूज़ में लेते है.

- चाहत की वस्तु, ऐसी वस्तु को प्रत्येक व्यक्ति को पसंद होती है पर सभी समान नही चाहते, के लिए उपयोग करता है.

मैं आशा करता हूँ कि पोस्ट "Envy Meaning in Hindi" and English को पढ़कर एन्वी का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) आपको काफी कुछ इस शब्द से रिलेटेड चीजे जानने को मिली होगी, हमने इनके साथ What is the Meaning of Envy in Hindi and English, Meaning of "Envy" in Hindi को भी एक्सप्लेन करने की पूरी कोशिश की है ताकि कोई सवाल छूटे नही. अपने सुझाब हमे कमेंट करे. अधिक वर्ड के लिए सर्च बॉक्स का यूज़ करे.

No comments:

Post a Comment