Wednesday, July 4, 2018

GRIEVANCE Meaning in Hindi and English - ग्रीवन्स का हिंदी इंग्लिश मतलव

Grievance Meaning in Hindi and English : आज मैं बताने बाला हूँ ग्रीवन्स का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) के बारे में. तो फिर समय ना गवाते हुये Meaning of Grievance in Hindi and English को पढ़ लेते है.

Grievance Meaning in Hindi and English :


मीनिंग ऑफ़ ग्रीवन्स इन हिंदी -
Noun 
 - कष्ट.
 - दुखहेतु.
 - रंज.
 - विपत्ति.
 - शिकायत.
 - हानि.
 - अन्याय.
 - उलाहना.


मीनिंग ऑफ़ ग्रीवन्स इन इंग्लिश -

Noun
1. A complaint about a (real or imaginary) wrong that causes resentment and is grounds for action.
2. An allegation that something imposes an illegal obligation or denies some legal right or causes injustice.
3. A resentment strong enough to justify retaliation.

Example
- settling a score.

मुझे उम्मीद है अब तक आप ग्रीवन्स का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) को संक्षेप में पढ़कर समझ चुके होंगे. अब मैं आपको बताने वाला हूँ आगे इसका विस्तार वर्णन जो इस वर्ड के सभी मीनिंग को एक - एक करके कुछ बातो से रिलेट करके उदहारण के द्वारा बहुत बढ़िया तरीके से प्रस्तुत किया ताकि आप सभी तरह से अच्छे ढंग से समझकर इसे याद रख पाये. 

Grievance Meaning in Hindi and English


What is the Meaning of Grievance in Hindi and English :


इनके मीनिंग का विस्तार -

- अन्याय, इस शब्द को हम ऐसे जान सकते है जैसे किसी के साथ बूरा करना. इसे थोड़ा खुलकर समझे तो नियम का उलंघन करके किसी का सही होने के बाबजूद उसे गलत बताना ही अन्याय होगा उस इंसान के प्रति.

यह एक के द्वारा दूसरे पर किया जाता है. इस वर्ड का खासकर बहुत से मामलो में केस के चलते कोर्ट - कचहरी में देखने और सुनने को मिलते रहते है.

- विपत्ति, इसका तात्पर्य कुछ ऐसी चीजे जो व्यक्ति को मानसिक या शारीरिक तौर पर नुकसान पहुचाती है. इसके चलते वह बहुत बुरा और तनाव महसूस कर रहा होता है साथ ही बह अपने आपको इनमे फंसा मानकर इनको सुलझाने में असमर्थ मानता है चूकी परेशानियाँ सभी के साथ होती है.

चाहे फिर ये बड़ी या छोटी ही क्यों ना हो. इसे बड़ा या छोटा मानना भी पूरी तरह आपके दिमाग पर निर्भर करता है.

- कष्ट, इसे दो तरह से समझ सकते है पहला शारीरिक तौर पर कुछ परेशानी जो तकलीफ दे रही है तथा दूसरा मानसिक स्तर पर तनाव या कष्ट का कारण कोई सवाल या समस्या जिसका हल नही निकाल पा रहे है. इनका भी कम या ज्यादा होना आपकी मानसिकता पर या प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग - अलग होता है.

- रंजिश, यह शब्द खासकर बदले की भावना को प्रकट करता है. इसे दुश्मनी या प्रतिस्पर्धा के चलते अलग-अलग आयामों में देखा जा सकता है. इसे शारीरिक तौर लड़ाई, मानसिक स्तर पर प्रतिस्पर्धा के चलते, कार्य के तौर पर नयी - नयी चीजे लाकर व्यक्त किया जाता है. 

यह बहुत से लेवल पर अलग - अलग दिखाई पड़ता है जैसे सामाजिक, पारिवारिक और देशो के बीच होने बाली रंजिश के उदहारण से समझ पाते है.

- हानि, इसे आपने हर तरफ सुनने साथ ही अपनी जिंदगी के कई बार फिल किया होगा. इसे पद, प्रतिष्ठा, पैसे, रिस्तो, बिज़नेस आदि के लेवल से जान सकते है. इन सभी में लाभ और हानि चलती ही रहती है. 

इनमे गिराव या कमी आना ही हानि को एक्सप्लेन करता है. इनके अनगिनत उदहारण हमारे आसपास मौजूद है जिनसे आसानी से जान पाते है. बहुत सी बार हम भी इसमें हिस्सेदार होते है.

इनका इफ़ेक्ट -

- अन्याय, हमारे देश में अन्याय को रोकने के लिए कानून की सैकड़ो धाराये बनायी गयी जो प्रत्येक प्रकार के अन्याय के लिए तथा नियमो के उलंघन के चलते लगायी जाती है फिर इसी को ध्यान रखते हुए उस पर केस चलाये जाते है. 

यहाँ इस जगत में कई तरह के गलत काम चलते ही रहते है. इनका पता होने के बाबजूद भी वे चीजे पहले जैसी ही लगातार काम करती है. इन कानूनों के चलते भी कई बार कोर्ट में बेकसूर को अन्याय झेलना पड़ता है. 

अब समाज में इसकी भूमिका या प्रभाव को देखे तो यह काफी सारे केस में जीवन को खत्म कर देने बाला होता है जिससे सोसाइटी और देश पर नकारात्मक इफ़ेक्ट पड़ता है. इन्हें कण्ट्रोल करने हेतु कानून, पुलिस, कोर्ट इसलिए ही बनाये गये है.

- विपत्ति, बहुत अधिक टाइम तक बड़ी समस्या में फंसा आदमी बड़े गलत कदम उठाने के अलावा कुछ ऐसा कर बैठता है तो उसके परिवार को बहुत दर्द दे जाता है इन समस्याओ को हल ना कर पाने की काविलियत इस ओर इशारा करते है कि अभी सही ज्ञान और समझ की बहुत जरूरत है.

इन परिणामो के कारण देश ठीक से प्रगति नही कर पा रहा है क्योकि आगे बढ़कर कुछ अलग करने की राह में हर दिन बड़ी - बड़ी समस्याओ को हल करने की आदत डालनी ही पड़ती है ना कि इनसे भागने या उसमे फंसे रहने की हेविट.

- कष्ट, यह एक धीमे जहर की तरह होता है जो अधिक समय तक बनाये रखने से दुखदायी रिजल्ट मिलते है. कष्ट को मानसिक तथा शारीरिक स्तर पर परिभाषित किया गया है. इसके द्वारा इंसान कुछ बन जाता है या फिर पूरी तरह ख़तम हो जाता है. अच्छे और बूरे दोनों प्रकार के रास्तो पर इससे सामना तो करना ही पड़ता है जो सामाजिक के साथ परिवार के जीवन को प्रभावित करता है.

- रंजिश, दुश्मनी हर तरह से प्रत्येक के लिए डिफरेंट मायने रखती है इसका प्रभाव और परिणाम इसकी मात्रा और प्रवृति पर डिपेंड करता है. हमने ऊपर काफी विस्तार से समझाया भी है यदि आपने शुरुआत से इस आर्टिकल को पढ़ा होगा तब. 

चूकी यह परिवार, समाज, देश के लेवल पर होने के कारण इसके रिटर्न भी इसी लेवल से देखे जा सकते है. हम इनके उदहारण आस - पास रोजमर्रा की जिंदगी में देखते ही आ रहे है.

- हानि, हम इसे नौकरी से लगाकर व्यापार तथा पैसे, फैमली के रिस्ते, देश के स्तर पर जन धन की हानि आदि से रिलेट करेंगे क्योकि हानि रुपये से ही नही बल्कि हर स्तर पर नुकसान होने के चांस रहते है चूकी हानिया अनेको प्रकार की है लेकिन इस छोटे आर्टिकल में ज्यादा विस्तार से बताना मुश्किल होगा.

इन शब्दों उपयोग -

- अन्याय, नियम का उलंघन करके सही को गलत बताकर उसके प्रति इस निर्णय को बताने के लिए इसका उपयोग करते है.

- विपत्ति, किन्ही कार्यो को करने में आने बाली समस्याओ को दर्शाने के लिए इसका यूज़ करते है.

- कष्ट, किसी बात, कार्य, चीज आदि के कारण शारीरिक या मानसिक लेवल पर दर्द महसूस करने को दर्शाता है.

- रंजिश, यह शब्द का उपयोग तब करते है जब दुश्मनी को प्रकट करना होता है चाहे फिर वह किसी लेवल का हो.

- हानि, इस वर्ड का यूज़ किसी भी तरह के नुकसान के लिए जिम्मेदार होने के लिए करते है.

मैं आशा करता हूँ आपको Grievance Meaning in Hindi and English यह जानकारी ग्रीवन्स का हिंदी और इंग्लिश मतलव(मीनिंग) से बहुत कुछ जानने को मिला ही होगा यदि वाकई मैं इस पोस्ट से कुछ वैल्यू दे पाया तो मुझे कमेंट के माध्यम से जरुर बताये. आपके द्वारा और भी जानने योग्य प्रश्नों What is the Meaning of Grievance in Hindi and English, Meaning of "Grievance" in Hindi के उत्तरों को भी हमने शेयर करने की कोशिश की है. अधिक वर्ड को जाने सर्च बॉक्स का इस्तेमाल करके.

No comments:

Post a Comment